Wednesday, April 15, 2009

॥ अधेड़ पेड़॥

अधेड़ पेड़
फिर हरा हो रहा है
आ रही हैं
नई पत्तियां
संचित हो रही है
ऊर्जा
जन्म ले रही हैं कोशिकाएं
बन रहा है प्लाज्मा
सक्रिय हो रहा है केन्द्रक
अधेड़ पेड़ में ।


0 राजेश उत्‍साही

3 comments:

  1. राजेश जी ,
    बहुत भावः पूर्ण आशावादी कविता ...बधाई ..समय निकल कर मेरा ब्लॉग भी देखिये .
    शुभकामनायें .
    हेमंत कुमार

    ReplyDelete
  2. पेड़ का अधेड़ होना
    ऊर्जा का पाना है
    इंसान का अधेड़ होना
    ढेर हो जाना है।

    सच कहूं
    कहीं कहीं तो
    सपनों का मर जाना है।

    ReplyDelete

जनाब गुल्‍लक में कुछ शब्‍द डालते जाइए.. आपको और मिलेंगे...