Thursday, March 29, 2012

भवानी प्रसाद मिश्र की तीन कविताएं


          29 मार्च कवि भवानी प्रसाद मिश्र का जन्‍मदिन है। प्रस्‍तुत हैं उनकी तीन कविताएं।

अबके
मुझे पंछी बनाना अबके
या मछली
या कली
और बनाना ही हो आदमी
तो किसी ऐसे ग्रह पर
जहां यहां से बेहतर आदमी हो

कमी और चाहे जिस तरह की हो
पारस्परिकता की न हो !
             ***
अपमान
अपमान का
इतना असर
मत होने दो अपने ऊपर

सदा ही
और सबके आगे
कौन सम्मानित रहा है भू पर

मन से ज्यादा
तुम्हें कोई और नहीं जानता
उसी से पूछकर जानते रहो

उचित-अनुचित
क्या-कुछ
हो जाता है तुमसे

हाथ का काम छोड़कर
बैठ मत जाओ
ऐसे गुम-सुम से !

       ***
ऐसे कौंधो 
बुरी बात है
चुप मसान में बैठे-बैठे
दुःख सोचना , दर्द सोचना !
शक्तिहीन कमज़ोर तुच्छ को
हाज़िर नाज़िर रखकर
सपने बुरे देखना !
टूटी हुई बीन को लिपटाकर छाती से
राग उदासी के अलापना !

बुरी बात है !
उठो , पांव रक्खो रकाब पर
जंगल-जंगल नद्दी-नाले कूद-फांद कर
धरती रौंदो !
जैसे भादों की रातों में बिजली कौंधे ,
ऐसे कौंधो ।
0 भवानी प्रसाद मिश्र

16 comments:

  1. मन से ज्यादा
    तुम्हें कोई और नहीं जानता
    उसी से पूछकर जानते रहो
    बहुत खूबसूरत रचनाएँ....

    सांझा करने का शुक्रिया राजेश सर.

    बड़े दिनों बाद आप आये...या पुस्तक प्रकाशन के पश्चात hibernation पर थे !!!सफलता/उपलब्धि के आनंद में???
    :-)

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  2. expression has left a new comment on your post "भवानी प्रसाद मिश्र की तीन कविताएं":

    मन से ज्यादा
    तुम्हें कोई और नहीं जानता
    उसी से पूछकर जानते रहो
    बहुत खूबसूरत रचनाएँ....

    सांझा करने का शुक्रिया राजेश सर.

    बड़े दिनों बाद आप आये...या पुस्तक प्रकाशन के पश्चात hibernation पर थे !!!सफलता/उपलब्धि के आनंद में???

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया अनु जी।
      इसमें कोई शक नहीं कि संग्रह के प्रकाशन की उपलब्धि का आनंद तो मैं ले ही रहा हूं। संयोग से मार्च माह में कई जगह की यात्रा पर रहा। वहां भी संग्रह की चर्चा रही। इस वजह से नई पोस्‍ट लगाने में देरी हुई।
      बहरहाल यात्राओं का विवरण और संग्रह की चर्चा के बारे में आप मेरे ब्‍लाग यायावरी पर जल्‍द ही पढ़ सकेंगे।

      Delete
    2. मुन्तजिर हूँ....

      Delete
  3. सभी एक से बढ़कर एक हैं ...बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति।

    ReplyDelete
  4. भवानी दादा की ये कवितायें पढते हुए उनका वह ओजस्वी स्वर याद हो आया!! उनके जन्मदिन पर उनके श्री चरणों में प्रणाम!!

    ReplyDelete
  5. इतनी बढ़िया कविताएँ पढवाने का शुक्रिया

    ReplyDelete
  6. भवानी भाई तो सदा ही भाते हैं.

    ReplyDelete
  7. अपने संसार के तीन पक्ष प्रस्तुत कर दिये हैं, अत्यन्त ही प्रभावी ढंग से।

    ReplyDelete
  8. बेहतरीन रचनाओं के लिए सलाम,,,,

    ReplyDelete
  9. भवानी प्रसाद मिश्र की याद दिलाने के लिए आपका आभार !
    शुभकामनायें भाई जी !

    ReplyDelete
  10. बहुत बढ़िया प्रस्तुति!
    घूम-घूमकर देखिए, अपना चर्चा मंच
    लिंक आपका है यहीं, कोई नहीं प्रपंच।।
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  11. बहुत अच्छी और हौसला अफजाई करने वाली कवितायें हैं.

    ReplyDelete
  12. अद्भुत कवितायें शेयर करने हेतु सादर आभार।
    भवानी प्रसाद मिश्र जी को सादर नमन।

    ReplyDelete
  13. ताखे के किसी कोने में रखी हुई गुल्लक उठा कर जब भी जरा सी ही हिला दो ... सिक्को की अद्भुत खनक मन को मोह लेती है ... और आपके सिक्के तो वैसे भी शब्दो की गूंज ठहरे ...सीधे अंतर्मन में बजते है ...

    ReplyDelete
  14. aisi jaani maani hastiyon ke rachnaaon ko padhne ka saubhagya jab bhee milta hai lagta hai...ahshash hota hai kee abhee to kuch seekha hee nahi abhi to kuch jaana hee nahi...is prayas ke liye kotisah dhanywad..apne blog par amantran ke sath

    ReplyDelete

जनाब गुल्‍लक में कुछ शब्‍द डालते जाइए.. आपको और मिलेंगे...