Friday, January 27, 2012

रास्‍ता इधर है...


                                                  फोटो: राजेश उत्‍साही 
...बश्‍ार्ते तय करो,
किस ओर हो तुम, अब 
सुनहले ऊर्ध्‍व-आसन के
दबाते पक्ष में,  अथवा 
कहीं उससे लुटी-टूटी
अंधेरी कक्षा में तुम्‍हारा मन 
कहां हो तुम ?
0 मुक्तिबोध
(मुक्तिबोध की लम्‍बी कविता 'चकमक' का एक अंश) 

8 comments:

  1. हर किसी के लिये रास्ता अलग होना तय है

    ReplyDelete
  2. गहन भाव संयोजन लिए शब्‍द ...

    ReplyDelete
  3. क्योंकि तय तुम्हें ही करना है आगत

    ReplyDelete
  4. muktibodh ke kavita ke satha bejod tasveer prastuti hetu dhanyvaad..

    ReplyDelete
  5. पढ़ रहा हूँ ...समझ रहा हूँ ..सोच रहा हूँ
    गहन ...मर्मस्पर्शी ...
    आपको वसंत पंचमी की ढेरों शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  6. मन तो अंधेरी कक्षा में ही होना चाहिए।

    ReplyDelete
  7. JAAN LE
    PAHACHAN LE
    KAHA HAI HUM
    AUR KYA CHAHIYE
    UDAY TAMHANE
    BHOPAL

    ReplyDelete

जनाब गुल्‍लक में कुछ शब्‍द डालते जाइए.. आपको और मिलेंगे...