Thursday, April 15, 2010

देखूं कोई बच्चा तो उसकी ही झलक आए

कपड़ों से मुझे अपने बिटिया की महक आए
घर भर के नशेमन से बिटिया की चहक आए


मैं तो काम करती हूं चुपचाप रसोई में
हर एक बर्तन से बिटिया की खनक आए

जाने क्या हो गया है अब मेरी निगाहों को
देखूं कोई बच्चा तो उसकी ही झलक आए

लगता है यही दिल को जब दूर वो होती है
इक बार तो वो आंचल में मेरे दुबक जाए

ये सोच के मैं अक्सर कविता किया करती हूं
शायद वो गजल बनकर मेरे शेरों में ढल जाए

पूजा को मेरी माता इतनी ही दुआ देना
मंत्रों की तरह बिटिया होटों से लिपट जाए

बैठी हुई अक्सर वो इक ऊं सी लगती है
उठे तो घर भर में आयत सी महक जाए

मूंदी है अभी पलकें ये सोच के मैंने
वो खुशी बनकर आंखों से छलक जाए
                                0 सुवर्णा दीक्षित

जयपुर से शिक्षा के मुद्दों पर केन्द्रित एक पत्रिका प्रकाशित होती है अनौपचारिका। इसे राजस्थान प्रौढ़ शिक्षण समिति प्रकाशित करती है। पिछले वर्ष इसके मार्च अंक में यह मर्मस्पर्शी कविता प्रकाशित हुई थी। अनौपचारिका ने भी इसे स्टेट बैंक आफ इंडिया की एक पत्रिका से साभार लिया था। सुवर्णा दीक्षित भी इसी बैंक में कार्यरत हैं। कविता अपने आप में एक बयान है। उसके बारे में बहुत कुछ कहने को नहीं है।

कविता के साथ जो तस्वीर है वह है मेरी छोटी बहन ममता की इकलौती बेटी सौम्या की। न जाने क्यों मुझे लगा कि यह कविता जैसे सौम्या के बारे में ही है। ममता खंडवा में है। बहनोई हेमराज अमोल्या एक शासकीय शाला में पिछले साल ही नियुक्तं हुए हैं। उसके पहले वे एक गैरशासकीय शाला में अध्यापन कर रहे थे।

उल्लेखनीय बात यह है कि ममता और हेमराज की बिटिया का जन्म उनकी शादी के लगभग 14 साल के बाद हुआ है। मैं इसे चमत्कार तो नहीं कहूंगा, पर सौम्या का जन्म तब हुआ जब उन्होंने यह उम्मीद छोड़ दी थी कि उनके यहां कोई संतान होगी। सौम्‍या घर भर में सबकी बहुत चहेती है। सुवर्णा दीक्षित के शब्दों में ही मैं बस इतना ही कहूंगा-
                                          ये सोच के मैं अक्सर कविता किया करता हूं
                                         शायद वो गजल बनकर मेरे शेरों में ढल जाए।

8 comments:

  1. bahut hi mamta bhara aur pyara...
    http://dilkikalam-dileep.blogspot.com/

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर रचना!

    ReplyDelete
  3. सौम्या बिटिया बहुत प्यारी है..आशीष!

    ReplyDelete
  4. शुक्रिया उड़न तशतरी के समीर जी।

    ReplyDelete
  5. सौम्य बेटी जितनी सुन्दर है उतनी ही सुन्दर पोस्ट ..
    १४ साल बहुत होते हैं मैं तो १० साल में ही उम्मीद छोड़ चुकी थी लेकिन कहते है जो किस्मत में होता है वही होता है.. १० वर्ष बाद आज मेरी एक बेटी और बेटा है..
    आपकी छोटी बहन ममता और बहनोई हेमराज अमोल्या जी को मेरी ओर से शुभकामना और बिटिया को ढेर सारा प्यार और शुभकामनायें!
    प्रेरक प्रस्तुति के लिए आपका बहुत बहुत आभार!

    ReplyDelete
  6. PYAARI SOMYA KO PYAAR. AAP SUBKO BADHAAI. @ UDAY TAMHANEY. BHOPAL.

    ReplyDelete
  7. सुवर्णा दीक्षितOctober 25, 2013 at 9:33 PM

    आदरणीय उत्साही जी, मेरी कविता प्रकाशित हुई, सराही गई.. हार्दिक आभार.. थोडे से सुधार की गुंजाइश बनती है, वह यह कि, मैं स्टेट बैंक नहीं "बैंक ऑफ़ बडौदा" में कार्यरत हूँ.. यह कविता "बॉब मैत्री" नामक हमारी गृह पत्रिका से ली गयी थी.. पुन: आभार आपका.. एक अनोखा संयोग यह है कि मेरी बिटिया का नाम भी सौम्या है इसीलिए यह अक्षरशः सत्य है कि कविता "सौम्या" के लिए ही लिखी गई है.. आपकी सौम्या और मेरी सौम्या दोनों को शुभाशीष.......

    ReplyDelete

जनाब गुल्‍लक में कुछ शब्‍द डालते जाइए.. आपको और मिलेंगे...