Thursday, September 23, 2010

अनुयायी : एक लघुकथा

वह आकर्षक व्यक्तित्व का मालिक था। बहुत सारे अनुयायी थे उसके। कुछ पक्के सिद्धांतवादी और कुछ कोरे अंध-भक्त। वे सब उसकी एक आवाज पर मर मिटने को तैयार रहते।
वह कहता,’...............।‘ सब हा‍थ उठाकर उसका समर्थन करते।

*** 

उन सबकी यानी उसकी प्रगति  की राह में एक खाई थी। मंजिल पर पहुंचने के लिए उस खाई को पाटना जरूरी था।

उसने  कहा, ‘यह खाई हमारी प्रगति में बाधा नहीं बन सकती। हमारी हिम्मत और दृढ़ निश्चय के आगे यह टिक नहीं सकेगी। साथियो, देखते क्या हो आगे बढ़ो।‘

देखते ही देखते वे सब उस खाई में समा गए।

उसने मुस्कराकर एक नजर लाशों से पटी खाई पर डाली और फिर उन पर चलते हुए अपनी मंजिल की ओर बढ़ गया।
                                                                                                                            0 राजेश उत्साही
(प्रज्ञा,साहित्यिक संस्था , रोहतक द्वारा आयोजित अखिल भारतीय लघुकथा प्रतियोगिता 1980-81 में पुरस्कृत । प्रज्ञा द्वारा प्रकाशित लघुकथा संग्रह ‘स्वरों का आक्रोश’ में संकलित ।)

29 comments:

  1. आपकी यह लघुकथा जैसा कि बताया है १९८०-८१ की है.. लेकिन आज भी उतनी ही प्रसन्गिक है... या कहिये अधिक प्रासन्गिक है... सफ़लता के राह मे खाई ऐसे ही पाटी जाती है... आज भी.. एक काल्जयी रचना समय की सीमा से परे होती है.. और आपकी यह लघुकथा ने २० वर्षो मे अपनी प्रसन्गिक्अता नही खोइ है... बधाई !

    ReplyDelete
  2. एक बार मेरे बॉस ने जब मेरी पीठ थपथपाई थी तो मैंने कहा था कि मुझे पीठ थपथपाने वालों से डर लगता है कि कहीं वो छुरा भोंकने की जगह तो नहीं तलाश रहे!! ब्रूटसों की कमी नहींहै बड़े भाई! एक ढूँढो हज़ार मिलते हैं... यह लघुकथा टिप्पणियों से परे सोचने की बात है कि कभी ऊपर पहुँचो तो देख लो कि तुम्हारे क़दमों के नीचे किसी की लाश तो नही! बड़े भाई, आभार!

    ReplyDelete
  3. बिना लाशों पर पैर रख कर भी ऊंचा उठा जा सकता है पर क्या लोग समझते नहीं? दरअसल ऐसा है नहीं। लोग जानते हैं पर मानते नहीं। कभी स्थितियां तो कभी महत्वाकांक्षाएं उसे ऐसे रास्ते पर ले जाकर खड़ा कर देते हैं जहां से फिर लौटा नहीं जा सकता।

    ReplyDelete
  4. बहुत अच्छी प्रस्तुति। राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में आपका योगदान सराहनीय है।
    मशीन अनुवाद का विस्तार!, “राजभाषा हिन्दी” पर रेखा श्रीवास्तव की प्रस्तुति, पधारें

    ReplyDelete
  5. बहुत अच्छी प्रस्तुति। राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में आपका योगदान सराहनीय है।
    मशीन अनुवाद का विस्तार!, “राजभाषा हिन्दी” पर रेखा श्रीवास्तव की प्रस्तुति, पधारें

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर और शानदार लघुकथा प्रस्तुत किया है आपने जो काबिले तारीफ़ है! बधाई!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/
    http://seawave-babli.blogspot.com

    ReplyDelete
  7. व्यक्तिगत महत्वाकांक्षाओं पर समर्थकों की की बलि से रक्तरंजित है विश्व का इतिहास।

    ReplyDelete
  8. बहुत ही ज़बरदस्त लघुकथा है... एक ऐसा विषय जो शोचनीय है..
    बहुत ही अच्छा लगा...

    आभार

    ReplyDelete
  9. सही कहा…………अच्छी प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  10. उसने मुस्कराकर एक नजर लाशों से पटी खाई पर डाली और फिर उन पर चलते हुए अपनी मंजिल की ओर बढ़ गया.....
    ....... bahut seekh deti laghukatha...

    ReplyDelete
  11. बहुत अच्छी लघु कथा है शायद उस महत्वअकाँक्षी का दूसरा चेहरा नही देख सकते लोग।िस लिये भेड चाल मे किसी की बातों मे आ ही जाते हैं। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  12. बाऊ जी,
    नमस्ते!
    जय हो!
    आशीष

    ReplyDelete
  13. भोपाल गैस त्रासदी के बाद का प्रसंग याद आता है. राजकुमार केसवानी जी को उनकी रिपोर्ट के लिए सम्‍मानित किए जाने के अवसर पर उन्‍होंने कुछ इस तरह कहा था कि 'आज महसूस कर बेचैनी हो रही है कि गैस हादसे के शिकार लाशों की ढेर पर खड़ा हो कर मुझे यह ऊंचाई मिली है.

    ReplyDelete
  14. अंध भक्तों को सबक सिखाती प्रेरक लघुकथा।

    ReplyDelete
  15. बहुत ही अच्‍छी लघुकथा है। वर्तमान में भी कितनी प्रासंगिक है।

    दीपाली

    ReplyDelete
  16. बहुत ही शानदार लघुकथा
    आपको बधाई

    ReplyDelete
  17. ओह! बाबरी मस्जिद/ राम मंदिर.....ऐसे ही ....और हजारों लाशों से सरयू पट गई.फिर भी नही समझ पाते ये अनुयायी.जाने क्यों 'वो' सब याद आ गया?
    अच्छा लिखते हो.कुछ कुछ खलील जिब्रान जैसा.ये बात कम नही एक लेखक के लिए.हाँ! छोटी कहानियां ब्लोग्स के लिए बेहतर होती है.बड़े बड़े आर्टिकल्स लोग पढ़ते होंगे? पढ़ कर ही कमेन्ट करते होंगे?यकीन नही होता. आपका शोर्ट एन स्वीट लिखना अच्छा लगा.

    ReplyDelete
  18. बहुत सुन्दर लघुकथा ..
    वास्तविकता के बिलकुल समानांतर

    ReplyDelete
  19. sach me apne mahatwakanchha ko jeevit rakhne aur usko pura karne ke liye kya aise dusro ko girana jaruri hoga.........!!

    ReplyDelete
  20. आजकल आकर्षक व्यक्तित्व के धनी भी ज्यादा हो गये है वे ब्यूटी पार्लर से सीधे टीवी चैनल पर आते है और उनके अंध भक्त तो आज कल इतने ज्यादा हो गये है कि कुछ पूछो मत ।अंध भक्तो को शिक्षा और उन पर व्यंग्य एक साथ सबकुछ कह गई आपकी ये कथा ।

    ReplyDelete
  21. कमाल की लघु कटा है ... बस शब्दों की संख्या ही लघु है ... बात तो बहुत लंबी करी है आपने .... मतलब भी बहुत गहरा है ...

    ReplyDelete
  22. वाह राजेश भाई !
    ऐसे ही तो हैं अधिकतर लोग ...थोडा सा भी प्रभावित होते ही अपनी पीठ पर किसी और का नाम लिख कर चलते हैं चाहे वह निकृष्टतम ही क्यों न हो ! ऐसे लोगों के इशारों पर खाई पाटने वालों की संताने कितनी स्वाभिमानी होंगी ...क्या संस्कार दे रहे हैं यह लोग ?? हार्दिक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  23. उत्साही जीए
    बहुत गहराई हे आपकी इस लघुकथा में.आज भी उतनी ही प्रासंगिक.

    कृपय मेरे इस ब्लाग पर पडी कुछ लघुकथा पर मेरा मार्गदर्शन करने का कष्ट करें..... www.srijanshikhar.blogspot.com

    ReplyDelete
  24. प्रवीण पाण्डेय जी से पूर्णतः सहमत.

    ReplyDelete
  25. प्रवीण पाण्डेय जी सही लिखे हैं, पर मैं इसे उस महत्वाकांक्षी इंसान की गलती नहीं बल्कि उन अंधे समर्थकों की बेवकूफी मानूंगा ...

    ReplyDelete
  26. RAHOOL SINGH NE SAHI JODA GAS KAAND AUR RAJKUMAR KESWANI KI YAAD DILAI.
    GAS KAAND ME BHI AISE HI BAHOOTO NE APNI MAHATVKANKSHA POORI KI HAI.
    UDAY TAMHANEY.
    BHOPAL.

    ReplyDelete

जनाब गुल्‍लक में कुछ शब्‍द डालते जाइए.. आपको और मिलेंगे...